Girish Pankaj
गिरीश पंकज
सम्पादकीय सलाहकार
Arun Kumar Jha
अरुण कुमार झा
प्रधान संपादक
Rajiv Anand
राजीव आनन्द
संपादक
Vinay Kumar Mishra
विनय कुमार मिश्र
संपादन सहयोगी
• गांधी जी की शहादत • 10 लाख डॉलर कीमत की है आलू की यह तस्वीर • बिल गेट्स से दोगुनी संपत्ति है पुतिन के पास जानिए इस रईस को • षष्ठम अन्तर्राष्ट्रीय ब्लागर सम्मेलन (थाईलैण्ड) • भारत के रक्षामंत्री मनोहर पर्रिकर रांची के पहाड़ी मंदिर पर विश्व का सबसे ऊँचा राष्ट्रीय तिरंगा फहराकर इतिहास रचा • संगीता सिंह भावना की तीन कविताएँ • नमो पतंगबाजी की धूम • ट्रैफिक सुरक्षा सप्ताह का दूसरा दिन  • जबरा करे तो दिल्लगी, गबरू का गुनाह…!!

भाषाई अपाहिज, आगे बौद्धिक अपाहिज होंगे : राहुल देव


‘मीडिया की भूमिका : भाषा सीखना या सिखाना’ विषय पर माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता वि.वि. में संगोष्ठी सम्पन्न
-डॉ. पवित्र श्रीवास्तव

देश के वरिष्ठ पत्रकार राहुल देव ने कहा कि वर्तमान में मीडिया में हिंदी की जो स्थिति है वह लंगड़ी, लूली और अपाहिज भाषा सी है। इसका असर यह होगा कि जो लोग भाषाई अपाहिज हैं, वे आगे चलकर बौद्धिक अपाहिज हो जाएंगे। यह हिन्दी की दैनिक हत्या जैसा है। कोई भी स्वाभिमान समाज ऐसा नहीं करता, जैसा हमारे यहां हो रहा है।
वे बुधवार को राजधानी में माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं जनसंचार विवि के पत्रकारिता विभाग द्वारा आयोजित – ‘मीडिया की भूमिका : भाषा सीखना या सिखाना’ पर संगोष्ठी में मुख्य वक्ता के तौर पर बोल रहे थे। राहुल ने कहा कि मीडिया की सिखाने की भूमिका, सीखने की भूमिका से ज्यादा बढ़ी है। उन्होंने कहा कि हिंदी के एफएम चैनल हिंदी को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचा रहे हैं। दुर्भाग्य से हिंदी समाज में इसका कोई संगठित विरोध भी नहीं हो रहा है। इसके विपरीत अंग्रेजी के एफएम चैनल इतना घालमेल नहीं करते। हालांकि उन्होंने विद्यार्थियों से कहा कि अंग्रेजी भाषा भी सीखना जरूरी है। यदि ऐसा नहीं होगा तो हम एक ही भाषा में सीमित रहेंगे, लेकिन इतना ध्यान रखना होगा कि हिंदी भाषा हमारी जमीन है। अध्यक्षीय उद्बोधन में विवि के कुलपति प्रो. बीके कुठियाला ने कहा कि मीडिया की भूमिका भाषा को सिखाने की ज्यादा है। उन्होंने कहा कि हिंदी मीडिया में इंडिया शब्द का प्रयोग होता है लेकिन अंग्रजी मीडिया में भारत शब्द का नहीं। इस गुत्थी को सुलझाना होगा। उन्होंने कहा कि जब सहिष्णुता शब्द चल सकता है तो हिंदी मीडिया में हिंदी का कोई भी शब्द चल सकता है। उन्होंने जानकारी दी कि विवि मीडिया की भाषा पर जल्द ही राष्ट्रीय संगोष्ठी करने जा रहा है। इससे पूर्व विवि के कुल सचिव डॉ. सच्चिदानंद जोशी ने कहा कि समाज से मीडिया की भाषा प्रभावित हो रही है या मीडिया से समाज की भाषा, इस पर विचार करने की जरूरत है। विवि के कुलाधिसचिव लाजपत आहूजा ने कहा कि मीडिया में भाषा की शुद्धता का सवाल हमेशा बना रहेगा। उन्होंने कहा कि भाषा की दुर्गति का आरोप युवा वर्ग पर है और उसे अब आगे आना होगा। पत्रकारिता विभाग की विभागाध्यक्ष डॉ. राखी तिवारी ने संगोष्ठी के विषय पर प्रकाश डालते हुए कार्यक्रम का संचालन किया।

सत्रों में बोले वक्ता
वरिष्ठ पत्रकार आनंद पांडे ने कहा कि भाषा का संक्रमणकाल चल रहा है। जीवन में जड़ता से अस्तित्व पर खतरा पैदा हो जाता है। यही चीज भाषा के साथ भी है। अत: भाषा को ताकत से अधिक लचीलेपन की आवश्यकता है। अखबार का मुख्य कार्य संवाद है, और इसके लिए भाषा में समझौता करना होता है। पर यह ध्यान देने वाली बात है कि समझौता कितना करना।
वरिष्ठ पत्रकार विनोद पुरोहित ने कहा कि मीडिया में बोलचाल की भाषा के प्रयोग की बात कही। भाषा पर अधिकार और स्वाभिमान होना चाहिए। और किसी भाषा को सीखने से गुरेज नहीं होना चाहिए।
समाज पोषित मीडिया पर आधारित तीसरे सत्र में वरिष्ठ पत्रकार गिरीश उपाध्याय ने बताया कि मीडिया समाज को स्थायित्व नहीं दे रहा। बल्कि ओर अस्थायी ही कर रहा है। लोकतंत्र को अधिक टिकाऊ होना चाहिए। वरिष्ठ पत्रकार उमेश त्रिवेदी ने बताया कि समाज की तरह सारी व्यवस्थाएं भी जीर्ण-शीर्ण हो चुकी हैं। अत: समाज मीडिया को पोषित नहीं कर सकता। समाज में परिपक्वता, समझ, साहस के बिना कोई भी धारा ठीक से नहीं चलेगी। दृष्टिकोण खड़े करना मीडिया के साथ ही समाज की भी जिम्मेदारी है।

निदेशक जनसंपर्क

Comments are closed.

Youtube
Sensex

अन्य ख़बरें

Submit Your Article

Copyright © 2015. All rights reserved. Powered by Origin IT Solution